एकलव्य बाहर हो गया एकैडमी से

सुबह-सुबह एकैडमी की लिस्ट आ गयी.एकैडमी के विदेशी भाषा श्रेणी में फिल्म भेजने के लिए जो मारकाट मची थी,उस से आप सभी परिचित हैं.धर्म और एकलव्य ऐसे टकराए थे मानो एकैडमी में फिल्म नहीं गयी तो फिल्म ही बनाना बेकार है.पता नहीं अब कौन मातम मना रहा होगा.शाम तक लोगों की प्रतिक्रियाएं आ जायेंगी।
फिलहाल आप को बता दें के इस साल ६३ देशों की फिल्मों को एंट्री मिली थी,उनमें से ९ पहले चरण में नामांकित की गयी हैं.२२ जनवरी को इनमें से ५ की अन्तिम सूची जारी की जायेगी।

1.Austria, “The Counterfeiters,” Stefan Ruzowitzky, director
2.Brazil, “The Year My Parents Went on Vacation,” Cao Hamburger, director
3.Canada, “Days of Darkness,” Denys Arcand, director
4.Israel, “Beaufort,” Joseph Cedar, director
5.Italy, “The Unknown,” Giuseppe Tornatore, director
6.Kazakhstan, “Mongol,” Sergei Bodrov, director
7.Poland, “Katyn,” Andrzej Wajda, director
8.Russia, “12,” Nikita Mikhalkov, director
9.Serbia, “The Trap,” Srdan Golubovic, director

चलिए हम सभी इन फिल्मों को देखने का इन्तेजाम करें.इसे शर्म कहें या विडम्बना कि भारत में ६०० से ज्यादा फिल्में बनती हैं और उनमें से कोई भी इस योग्य नहीं होती कि नामांकित भी हो सके.भारत से नामांकित होने वाली आख़िरी फिल्म लगान थी।

आप बताएं कि इस साल कौन सी फिल्म एकैडमी अवार्ड के लिए भेजी जानी चाहिए.

Comments

Anonymous said…
इस बार तो सिर्फ और सिर्फ 'तारे जमीन पर' का ही दावा बनता है... बाकी भेजा किसे जाता है ये तो हमेशा की तरह राजनीति से ही तय होना है। वैसे मेरा मन कहता है कि 'लगान' की कसर 'तारे..' से पूरी हो सकती है।

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

तो शुरू करें