आई एम कलाम-शिवम नारायण

कलाम एक ऐसे बच्‍चे की कहानी है। जो पढ़ नहीं सकता। उसकी मां उसे एक ढ़ाबे पे छोड़ के चली जातीहै। वहां भी कलाम बहुत अच्‍छे काम करता है और कलाम जो चीज को देखता है उसे कभी भूलता नहीं चाहे वह जड़ीबुटियां हो या चाय बनाना। एक दिन कलाम एक राजा के बेटे से दोस्‍ती करता है। कलाम उसे हिन्‍दी सिखाता है और हुकुम का बेटा उसे इंगलिश। इससे ये पता चलता है कि कमाल में कितनी इच्‍छा है पढ़ने की। एक दिन कलाम राष्‍ट्रपति जी अब्‍दुल कलाम जी को टीवी पर देखता है और उसे लगता है कि पढ़ने की कोई उमर नहीं होती और कलाम उनके जैसे बनना चाहता है। पर मुझे पूरी फिल्‍म में कलाम के बोलने का तरीका सबसे अच्‍छा लगा।

शिवम नारायण की उम्र 9 साल है। उनसे shivam.narayan14@gmail.com पर बात कर सकते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

तो शुरू करें