अनुष्का शर्मा को भविष्य की चिंता नही

अनुष्का को भविष्य की चिंता नहीयुवा अभिनेत्रियों की शाश्वत मुश्किल है कि हर प्रकार की सफलता हासिल करने के बाद भी वे खुश नहीं हो पातीं। मन में क्षोभ और लोभ रहेगा तो वह चेहरे से भी जाहिर होगा। अभिनय की दुनिया में आए सभी व्यक्तियों को अनुष्का से मुस्कराहट का मंत्र लेना चाहिए।

मॉडलिंग में दिलचस्पी

मूलत: उत्तराखंड की अनुष्का शर्मा की पढाई-लिखाई बंगलौर में हुई। किशोर उम्र में ही मॉडलिंग में उनकी रुचि बनी। वह रैंप पर उतरीं। पहचान बनी तो मॉडलिंग करने लगी। आरंभ में लाइमलाइट में आने पर भी फिल्मों में आने का इरादा नहीं था। संयोग से एक बार फिल्म जगत में आ गई तो अब अनुष्का का जाने का इरादा भी नहीं है। अनुष्का अछी तरह जानती हैं कि वह एक ऐसी इंडस्ट्री में अपनी पहचान हासिल करने की कोशिश में हैं, जहां एक फिल्म की असफलता भी नेपथ्य में भेज देती है। यह कहना जल्दबाजी होगी कि अनुष्का ने दर्शकों और निर्देशकों की नजरों में रहने का गुर सीख लिया है। 2008 से अभी तक के करियर में समान संख्या में हिट और फ्लॉप फिल्में दे चुकी अनुष्का को भविष्य की अधिक चिंता नहीं है। अभी उनके पास यश चोपडा और विशाल भारद्वाज की फिल्में हैं।

मिली खास पहचान

अनुष्का की शुरुआत या लॉन्चिंग से किसी भी नई अभिनेत्री को ईष्र्या हो सकती है। रब ने बना दी जोडी में एक साथ तीन सुनहरे अवसर मिले। सबसे पहले तो यशराज फिल्म्स, फिर शाहरुख खान और अंत में आदित्य चोपडा का निर्देशन पहली फिल्म ने उन्हें खास पहचान दी। उन्हें अपनी पहली फिल्म में ही दो-दो शाहरुख खान के साथ काम करने का मौका मिला। बैंड बाजा बारात से वह आम दर्शकों की पसंद बन गई। रणवीर सिंह के साथ उनकी जोडी भी बन गई। उनकी अगली फिल्म शाहरुख खान के साथ होगी। इसके अलावा विशाल भारद्वाज ने उन्हें मटरू की बिजली का मनडोला के लिए चुना है। इस फिल्म में वह मनडोला इमरान खान के साथ बिजली की भूमिका में दिखेंगी। इन दिनों इस फिल्म की वर्कशॉप चल रही है। विशाल भारद्वाज शूट पर जाने के पहले अनुष्का को बिजली में ढाल देना चाहते हैं। अनुष्का भी इसके लिए तैयार हैं। खबर है कि इस वर्कशॉप पर ध्यान देने के लिए ही उन्होंने अवार्ड समारोहों के मौसम में स्टेज परफॉर्मेस के लिए हां नहीं किया, जबकि दो-चार परफॉर्मेस से पैसे और चर्चा दोनों का लाभ होता।

भर देती हैं जोश से

गौर करें तो अनुष्का अभी ऐड फिल्मों और प्रोडक्ट एंडोर्समेंट में भी काफी सक्रिय हैं। टीवी से प्रसारित उनके विज्ञापनों में एक तत्व की समानता है। वह अपने सभी ऐड में अभिनय करती नजर आती हैं। उनके लिए ऐसी स्क्रिप्ट लिखी जाती है कि उनके परफॉर्मेस की क्षमता का उपयोग हो। वह लगातार साबित कर रही हैं कि उन पर भरोसा किया जा सकता है। बाजार का उनमें विश्वास बढा है। लेडीज वर्सेस रिकी बहल के गीत जगा ले जल्बा में झूमती और अपनी खुशी के लिए कदम उठाने का आह्वान करती अनुष्का दर्शकों को जोश से भर देती हैं। उनकी स्फूर्ति संक्रामक है। पर्दे से उसका वायरस दर्शकों तक पहुंचता है। यही वजह है कि वह अपनी पीढी की अभिनेत्रियों में दर्शकों की चहेती बनी हुई हैं।

Comments

शिवा said…
बढिया और बेहतरीन जानकारी परख आलेख .बधाइ

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra