फिल्‍म समीक्षा : पुरानी जींस

-अजय ब्रह्मात्‍मज 
हिंदी फिल्मों में प्रेम कहानी की तरह ही दोस्ती की कहानी भी बार-बार रिपीट की जाती है। इस दोस्ती के बीच बाज दफा एक लड़की भी रहती है। दो दोस्त एक ही लड़की को चाहते हैं। लड़की समय पर अपना प्रेम जाहिर नहीं कर पाती और उसकी वजह से दोस्तों में गलतफहमियां पैदा होती हैं और फिर ...पुरानी जींस ऐसी ही एक पुरानी कहानी है,जिसमें नए कलाकार लिए गए हैं। साथ में एक दोस्त के परिवार की कहानी भी जोड़ दी गई है ताकि कुछ ड्रामा क्रिएट हो। अफसोस लेखक और निर्देशक तनुश्री चटर्जी बसु इस पुरानी कहानी को नया अंदाज देने में असफल रही हैं।
फिल्म के लिए कसौली की पृष्ठभूमि चुनी गई है। इस खूबसूरत शहर में पांच दोस्त हैं,जो कसौली काउब्वॉय के नाम से मशहूर हैं। सैम उनमें सबसे धनी और स्मार्ट है। सारे दोस्त उसका कहा मानते हैं। हिंदी फिल्मों में दोस्ती के आधार में पैसों की वजह से यह नायकत्व आसानी से मिल जाता है। चूंकि सिड भी कवि है, इसलिए उसे भी बराबर का महत्व मिला है। बा•ी तीन दोस्त से अधिक पिछलग्गु लगते हैं।
बहरहाल शहर में नई लड़की नयनतारा आती है। दिलफेंक सैम उसे देखते ही फिदा हो जाता है, लेकिन नयनतारा को सिड अधिक पसंद है। इस प्रेम त्रिकोण में कहानी घिसटती है। जी हां, कहानी आगे नहीं बढ़ती, क्योंकि लेखक के पास प्रसंग और घटनाएं नहीं हैं। कोई नया ट्विस्ट नहीं है।
सैम और उसकी मां की समानांतर कहानी भी उलझी सी है। उसका फिल्म की मुख्य कहानी से इतना ही रिश्ता है कि पांच दोस्तों में अगुआ बना सैम उस परिवार का है। सैम के परिवार की बैक स्टोरी पर पूरा ध्यान न देने की वजह से वह बाधा और बोझ बन गई है। पुरानी जींस घटनाओं के अभाव में लंबी प्रतीत होती है। गाने भी फिल्म में सही ढंग से नहीं पिरोए गए हैं। ये गाने अलग से सुनने पर भावपूर्ण लग रहे थे,लेकिन फिल्म में उनका दृश्यांकन अनुपयुक्त है।
तनुज विरवानी और आदित्य सील अपनी भूमिकाओं में पूरी मेहनत करते हैं। वे दोनों कुछ नाटकीय दृश्यों में अच्छे भी लगते हैं। इस फिल्म की नायिका इजाबेल तो काठ की मूर्ति लगती हैं। उनहें बोलने में कितनी मेहनत लगती है। निस्संदेह वह खूबसूरत हैं, लेकिन अदाकारी के मामले में वह बेहद निराश करती हैं। रति अग्निहोत्री और सारिका ने अपनी भूमिकाओं के साथ न्याय किया है। पुरानी जींस दोस्ती की तरह सुकून देती होगी। फिल्म के रूप में पुरानी जींस कोई सुकून नहीं देती।
अवधि- 139 मिनट
* एक स्‍टार

Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

तो शुरू करें