बॉम्‍बे वेल्‍वेट के गीत - क ख ग


क ख ग

ऐ तुम से मिली 
तो प्‍यार का 
सीखा है क ख ग घ 
ऐ, समझो ना 
क्‍यों प्‍यार का 
उल्‍टा है क ख ग घ 
क्‍यो जो दर्द दे 
तड़पाए भी 
लगता है प्‍यारा वही 
क्‍यों टूटे ये दिल 
कहलाए दिल तभी 

तैरने की जो कोशिशें करे 
काहे डूब जाता है 
सब भुला के जो डूब जाए क्‍यों 
वही तैर पाता है 
 जो हर खेल में जीता यहां दिलबर से हारा वो भी 
क्‍यों टूटे ये दिल 
कहलाए दिल तभी 

ऐ तुम से मिली 
तो प्‍यार का 
सीखा है क ख ग घ 
ऐ, समझो ना 
क्‍यों प्‍यार का 
उल्‍टा है क ख ग घ




धत्‍त तेरी 
इसकी हर सज़ा क़बूल है जिसे 
यहां वही...वही बरी हुआ है 
इस पे जो मुक़द्दमा करे
अजी वही ...वही मरा है 
बताओ क्‍यों इस जेल से 
भागा है जो 
दोबारा लौटा वो भी 
क्‍यों टूटे ये दिल
कहलाए दिल तभी 

ऐ तुम से मिली 
तो प्‍यार का 
सीखा है क ख ग घ 
ऐ, समझो ना 
क्‍यों प्‍यार का 
उल्‍टा है क ख ग घ




Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

खुद के प्रति सहज हो गई हूं-दीपिका पादुकोण