गजनी में गजब ढाएंगे आमिर खान

-अजय ब्रह्मात्मज
पिछले साल 'तारे जमीन पर' में दर्शकों ने आमिर खान को निकुंभ सर की सीधी-सादी भूमिका में देखा था। अब 'गजनी' में वे हैरतअंगेज एक्शन करते नजर आएंगे। गजनी के लिए उनके माथे पर कटे का निशान तो सभी ने देख रखा है। लेकिन, उनकी बाडी के बारे में किसी को पता नहीं था। 'गजनी' में आमिर उभरे 'बाइसेप्स' और 'शोल्डर्स' के साथ दर्शकों के सामने होंगे।
दैनिक जागरण से खास बातचीत में आमिर ने नए लुक और 'गजनी' के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा, 'मैं लंबे अंतराल के बाद एक्शन फिल्म कर रहा हूं। फिल्म के निर्देशक मुरुगदास ने मुझे सलाह दी थी कि एक्शन हीरो होने के नाते मैं अपनी बाडी बनाऊं। ऐसी बाडी बनाने में डेढ़-दो साल लगते हैं।' आमिर ने कहा, 'मैंने तारे जमीन पर के पोस्ट प्रोडक्शन के समय से ही अपने शरीर पर काम शुरू कर दिया था। उन दिनों रोजाना तीन-चार घंटे की एक्सरसाइज के बाद मैं थक कर चूर हो जाता था। लेकिन, फिल्म के लिए यह करना जरूरी था।'
आमिर ने कहा, 'फिर मुझे दुनिया की नजरों से भी इस बाडी को छिपा कर रखना था। मैं उन दिनों ऐसे कपड़े पहनता था कि कोई भांप न सके।' उल्लेखनीय है कि हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में आमिर ने ही फिल्म के किरदार के हिसाब से लुक तैयार करने की परंपरा डाली। 'लगान', 'दिल चाहता है', 'मंगल पांडे', 'रंग दे बसंती', 'फना', 'तारे जमीन पर' और अब 'गजनी' में दर्शक उन्हें अलग लुक में देखेंगे।
हर फिल्म के साथ लुक बदलने के बारे में आमिर ने कहा, 'मैं इसे बहुत जरूरी मानता हूं। मुझे लगता है कि लुक अपनाने के बाद आप किरदार को जीने लगते हैं। मैं अपनी फिल्मों में जो किरदार निभाता हूं, वैसा ही महसूस करने लगता हूं। हालांकि यह थकान और तकलीफ से भरी प्रक्रिया होती है। लेकिन, जब दर्शक मेरी फिल्मों की सराहना करते हैं तो सब वसूल हो जाता है।'
'गजनी' तमिल में इसी नाम से बनी फिल्म का रीमेक है। इसे तमिल फिल्म के निर्देशक ए आर मुरुगदास ने ही निर्देशित किया है। गजनी में आमिर के साथ दक्षिण की हाट अभिनेत्री आसिन और जिया खान हैं। 'तारे जमीन पर' की रिलीज के पूरे एक साल के बाद इस साल क्रिसमस के मौके पर 'गजनी' रिलीज होगी।

Comments

PD said…
इस गजनी को तो देखने के बाद ही कुछ कहूंगा.. मगर तमिल वाली गजनी देखी है मैंने और उस सिनेमा को लेकर यहां लोगों के बीच क्रेज भी देखा है.. अगर वैसा ही क्रेज हिंदी भाषी किसी भी क्षेत्र में बने तभी मेरी समझ में कुछ दम होगा उस सिनेमा में.. :)
Anonymous said…
देखते हैं गजनी की गरजना कितनी और कहां तक रहती है।

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra