खानों से रिश्ता हुआ खास-करीना कपूर

-अजय ब्रह्मात्‍मज

बॉडीगार्ड की रिलीज के बाद उत्साहित हैं करीना कपूर। उन्होंने झंकार से शेयर किए कॅरियर व पर्सनल लाइफ के राज..

बॉडीगार्ड के रिलीज होने की मुझे बहुत खुशी है। इसका सभी को इंतजार था। मेरे लिए भी खास फिल्म थी। इसमें सलमान खान ने पूरे दिल से काम किया है। बहुत प्यारी फिल्म बनी है। बॉडीगार्ड इमोशनल रोमांटिक एक्शन पैक्ड फिल्म है। आम-तौर पर सलमान की फिल्में कॉमेडी या एक्शन होती हैं, इस फिल्म में हर तरह का मसाला है। नहीं देखी है तो देख लें। मैं इसे इमोशनल रोमांटिक ही कहना पसंद करूंगी।

गीत से अलग है दिव्या

कॅरियर के लिहाज से मेरे लिए बॉडीगार्ड का रोल जब वी मेट की टक्कर का है। आप बॉडीगार्ड की दिव्या और जब वी मेट की गीत की तुलना नहीं कर सकते, क्योंकि दोनों अलग-अलग तरह की लड़कियां हैं। सलमान खान की फिल्म में लड़की को इतना काम मिल जाना काफी था। इस फिल्म की यही खूबी रही कि बहुत ही रियल तरीके से इसे शूट किया गया था। ईद के मौके पर रिलीज होने की वजह से सलमान खान और मेरे प्रशंसकों ने इसे खूब पसंद किया। सिद्दीकी ने बहुत सुंदर काम किया।

बिजी हूं खानों के साथ

मैं अभी पांचों खानों के साथ बिजी हूं। आने वाली फिल्मों की बात करूं तो बॉडीगार्ड के बाद शाहरुख खान के साथ रा.वन रिलीज होगी। फिर सैफ के साथ एजेंट विनोद है। आमिर खान की फिल्म धुआं की शूटिंग चली रही है। वह अगले साल रिलीज होगी। करण जौहर की एक फिल्म इमरान खान के साथ की है। वह फरवरी में रिलीज होगी। मैंने हमेशा यह ध्यान रखा कि हर तरह की फिल्में करूं। अब तक की मेरी फिल्मों की लिस्ट देखें तो आप को यही एहसास होगा। हर तरह की फिल्में करने से दर्शक भी खुश रहते हैं और हम भी बोर नहीं होते। मैंने हमेशा अपने काम में संतुलन बनाए रखा है। इमरान खान की फिल्म लव स्टोरी है तो आमिर खान की थ्रिलर है और एजेंट विनोद स्पाइंग थ्रिलर है। बॉडीगार्ड में लोगों ने मुझे मसाला कमर्शियल फिल्म में देखा। यह साल तो खानों को ही समर्पित हो गया। मैं मना भी नहीं कर सकी। जैसे-जैसे फिल्में मिलती गई, मैं करती गई। सारी फिल्में इंटरेस्टिंग हैं।

पांच खान, पांच प्रकार

शाहरुख खान को मैं विजनरी फिल्ममेकर और एक्टर मानती हूं। वे हमेशा आगे के बारे में सोचते हैं। आप रा.वन को ही देखें। यह बहुत आगे की फिल्म है। इस फिल्म को वे पिछले दस सालों से बनाना चाह रहे थे। वे हमेशा बॉलीवुड के बादशाह बने रहेंगे।

आमिर खान जीनियस हैं। रंग दे बसंती से लेकर देल्ही बेली तक उनकी ही चर्चा है। इन सभी फिल्मों को आमिर ने अकेले हिट किया है। मैं उनकी बहुत बड़ी फैन हूं। मुझे 3 इडियट के बाद फिर से उनके साथ काम करने का मौका मिला है। आमिर की फिल्में देखें तो लगातार दो फिल्मों में एक ही हीरोइन नहीं दिखी है। मेरे ख्याल में वह भारत के सर्वोत्तम अभिनेताओं में से एक हैं।

सलमान खान अपने कॅरिअर के सबसे अच्छे दौर में हैं। पिछले बीस सालों में सलमान ने जो मेहनत की है, वह भी रंग दिखा रही है। वह सचमुच टाइगर हैं। आप उनकी फिल्में देखें। उन्हें दर्शक रजनीकांत की तरह मानने लगे हैं।

सैफ अली खान में इंटरनेशनल क्वालिटी है। हिंदी फिल्मों में वह अकेले इंटरनेशनल टाइप एक्टर हैं। आप देखें कि हर फिल्म में वे अलग दिखते हैं। उनका दिमाग प्रोग्रेसिव है। वे रेगुलर हीरो वाले रोल ज्यादा पसंद नहीं करते। खानों में वे अलग खान हैं।

इमरान खान अभी नए हैं। वे अपनी जगह बना रहे हैं। उनकी दौड़ जारी है, लेकिन उनमें आगे बढ़ने की भूख और ख्वाहिश है। मुझे पूरा यकीन है कि वे आगे जाएंगे। वे प्यारे यंगस्टर और कूल एक्टर हैं। शुरुआत में वह थोड़े टेंशन में थे, लेकिन बातें कर मैंने उनका कंफर्ट बढ़ाया। वह कहते हैं कि मैं आपका फैन हूं।

मैं ही हूं हीरोइन

मैंने मधुर भंडारकर की हीरोइन के लिए हां कह दिया है। अभी कैरेक्टर, पैसे और डेट्स पर बात चल रही हैं। मैंने स्क्रिप्ट पढ़ी और हां कह दिया। आप लोग जिस तरह की परफार्मेस की मुझसे मांग करते हैं या जैसी फिल्मों में देखना चाहते हैं..हीरोइन वैसी ही फिल्म है। अगले साल यह मेरी ऐसी ही दमदार फिल्म होगी।

रस्म भर है शादी

मजेदार है कि सैफ और मुझसे अधिक लोगों को चिंता है कि हमारी शादी कब हो रही है। हमें अपनी फिल्मों से ही फुर्सत नहीं है। भाई, हमें तो एनाउंस करने दीजिए, हमारी शादी है तो हमें मौका दीजिए कि हम आपको न्योता दें। ऐसा थोड़े ही होगा कि आप हमारी जबरदस्ती शादी करवा देंगे। मेरे दिमाग में शादी को लेकर कोई मुश्किल नहीं है। शादी कोई बड़ी बात है क्या? हमलोग साथ रहते हैं। अपना-अपना काम करते हैं। ऐसे में शादी एक रस्म भर ही है? कागज के टुकड़े पर हम दोनों सिग्नेचर करेंगे और हमारी शादी हो जाएगी। उसके लिए इतनी हाय-तौबा क्यों? आप हमारी एक्टिंग पर ध्यान दें न कि हमारी शादी पर।

काम और पर्सनल लाइफ में संतुलन

मैंने हमेशा वर्क और पर्सनल लाइफ में संतुलन रखा है। मैं शुरू से आजाद ख्याल रही हूं। अपने फैसले स्वयं लेती हूं। केवल फाइनेंस के फैसले मॉम और करिश्मा लेती हैं। बाकी कॅरियर, फिल्म, पर्सनल रिलेशन यह सब मैं ही तय करती हूं कि क्या करना है और क्या नहीं? मेरा प्रोडक्शन और डायरेक्शन में कोई इंटरेस्ट नहीं है। मुझे केवल एक्टिंग पसंद है।

Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra