ऐसी भी क्‍या जल्‍दी है -विक्रमादित्य मोटवानी



-अजय ब्रह्मात्मज
‘उड़ान’ और ‘लूटेरा’ के निर्देशक विक्रमादित्य मोटवानी अपनी नई फिल्म के प्रिप्रोडक्शन में व्यस्त हैं। इसके साथ ही वे फैंटम फिल्म्स के प्रमुख कर्ता-धर्ता हैं। अनुराग कश्यप,विकास बहल और मधु मंटेना के साथ उन्होंने क्रिएटिव प्रोडक्शन कंपनी आरंभ की है। विक्रमादित्य मोटवानी की ‘लूटेरा’ इसी बैनर के तहत आई थी।
- आप की फिल्म ‘लूटेरा’ को सराहना और प्रशंसा मिली,लेकिन वह सफल नहीं रही। कहां चूक हो गई?
0 फिल्म मैंने अपनी सोच से बनाई थी। पहले से अंदाजा था कि उसे मिक्स रेस्पांस मिलेगा। कुछ को पसंद आएगी तो कुछ को पसंद नहीं आएगी। हम सभी को यह पता था। मैं उसके लिए तैयार था। सराहना जबरदस्त मिली। अगर बाक्स आफिस पर भी समान परिणाम आता तो कमाल हो जाता। मार्केटिंग,डिस्ट्रीब्यूशन और अन्य चीजों पर फिल्म का बिजनेस निर्भर करता है। मेरा अनुभव कभी इंटरेस्टिंग रहा।
-फिल्म रिलीज होने के बाद कोई निर्माता-निर्देशक उस पर बातें नहीं करता। आप तैयार हुए,लेकिन क्या कमियों के बारे में बताना चाहेंगे?
0 ‘उड़ान’ से ज्यादा सीख मुझे ‘लूटेरा’ ने दी। पता चला कि मैं कहां चूक गया। क्या बेहतर कर सकता था? कहां चूक हो गई। हालांकि मेरे लेखक सहमत नहीं होंगे,लेकिन मुझे लगता है कि पटकथा में गड़बड़ी रह गई थी। अगर हम उसे चुस्त और अलग रखते तो फिल्म का प्रभाव बदल जाता। अभिनय,संगीत,प्रोडक्शन आदि में कोई कमी नहीं दिखती। इस फिल्म में अभिनय के लिए सोनाक्षी सिन्हा और रणवीर सिंह की तारीफ होती है। मैं किसी को दोषी नहीं ठहराना चाहता। मैं निर्देशक हूं। यह मेरी जिम्मेदारी थी कि कमियों को दूर करूं। स्क्रीनप्ले दुरुस्त करूं। ‘लूटेरा’ प्योरिस्ट फिल्म हो गई थी। ऐसी फिल्म कुछ लोगों को बेहद पसंद आती है,लेकिन आम दर्शक बिदक जाते हैं। उन्हें ऐसी फिल्म हजम नहीं होती। फस्र्ट हाफ और सेकेंड हाफ दोनों जगह में स्क्रीनप्ले में दिक्कतें रह गई थीं।
-क्या ‘लूटेरा’ के परिणाम ने आप को शिथिल कर दिया। खबर थी कि अगली फिल्म आप जल्दी ही आरंभ कर देंगे।
0 मुझे अपनी फिल्म जनवरी में ही आरंभ करनी थी। सब कुछ तय था।पहले इमरान खान के साथ यह फिल्म होनी थी। अभी सिद्धार्थ मल्होत्रा के साथ करूंगा। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में स्टार की कमी है। उनकी तारीखों की समस्या रहती है। फिल्म निर्माण की इन अंदरूनी तब्दीलियों से फिल्म में देर हो जाती है। अभी दिसंबर में अपनी फिल्म आरंभ करूंगा। खली तो हूं नहीं। फैंटम के प्रोडक्शन की अन्य फिल्में भी देखनी होती हैं।
-फैंटम फिल्म्स में क्या-क्या चल रहा है? अभी कौन सी फिल्में आएंगी?
0 अनुष्का शर्मा की फिल्म ‘एनएच10’ की शूटिंग पूरी हो चुकी है। इसमें नील गोपालन भी हैं। इसके निर्देशक नवदीप सिंह हैं। 19 ाितंबर को अनुराग कश्यप की ‘अग्ली’ रिलीज होगी। उनकी ही ‘बांबे वेलवेट’ के पोस्ट प्रोडक्शन का काम चल रहा है। यह फिल्म भी दिसंबर में रिलीज हो रही है। नवाजुद्दीन सिद्दिकी के साथ ‘घूमकेतु’ बन रही है। साथ में रघुवीर यादव और इला अरूण हैं। उसे पुष्पेन्द्र मिश्र निर्देशित कर रहे हैं। हर्ष कुलकर्णी की एक फिल्म है। अभिषेक चौबे के साथी एक फिल्म आरंभ होगी। मेरी फिल्म का प्रिप्रोडक्शन चल रहा है। उसकी रायटिंग और डेवलपमेंट का काम है। फैंटम के लिए यह साल महत्वपूर्ण है। आगे का रोडमैप अभी की फिल्मों की रिलीज के बाद तय होगा।
-क्या रोडमैप है ?
0 हमारा तो सब कुछ खुला और सभी का जाना हुआ है। हमें फिल्में बनानी है। छोटी-बड़ी हर तरह की फिल्मों की योजनाएं हैं। टीवी और ऐड फिल्मों में भी घुसना है। हर दिशा में फैलना है। बड़ी और बेहतर फिल्में बनानी हैं। आप देखें कि अनुराग कश्यप की ‘बांबे वेलवेट’ कितनी बड़ी फिल्म हो गई है। विकास और मेरी फिल्म भी बड़ी होगी। हमलोग अपनी सारी फिल्में किसी न किसी के सहयोग से बना रहे हैं। इसमें रिस्क की शेयरिंग हो जाती है। कोप्रोडयूसर के साथ रहने से आसानी हो जाती है।
-फैंटम में आप की क्या भूमिका रहती है?
0 हमलोगों के काम उस तरह से परिभाषित नहीं हैं। विकास,अनुराग और मैं ... तीनों स्क्रिप्ट पढ़ते हैं। जो अच्छी लग जाती है,उसे बनाते हैं। मधु मंटेना हम सभी के संरक्षक और मालिक हैं। वे हम पर नियंत्रण रखते हैं। हमारी कोशिश रहेगी कि क्वालिटी और कंटेंट पर फोकस रहे। हम सिर्फ बिजनेस करने नहीं आए हैं। चार में से हम तीन तो डायरेक्टर ही हैं। हमलोग बाहर की प्रतिभाओं का स्वागत करते हैं। जाहिर सी बात है कि हम अपनी पसंद से ही फिल्में चुन रहे हैं। वैरायटी तो दिखेगी।
-आप थोड़े स्थिर भाव के डायरेक्टर लगते हैं। किसी हड़बड़ी में नहीं दिखते।
0इतने सालों के अनुभव से जान लिया है कि अपना काम जमा कर करो। जल्दबाजी से क्या होगा? एक स्थिति ऐसी आ गई कि हमें एक्टर बदलना पड़ा। इमरान ने ना कर दिया। अभी सिद्धार्थ मल्होत्रा फायनल हुए हैं। ‘भावेश जोशी’ एक्शन फिल्म है। विकास बहल की फिल्म ‘शानदार’ डेस्टिनेशन वेडिंग पर है। आजकल यह फैशन में है। लोग यूरोप जाकर शादियां कर रहे हैं। इसमें शाहिद कपूर और आलिया भट्ट हैं।


Comments

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

तो शुरू करें

फिल्म समीक्षा: 3 इडियट