टीवी सीरिज ‘होमलैंड 4’ में निम्रत कौर


-अजय ब्रह्मात्मज
    2013 में आई फिल्म ‘लंचबाक्स’ में इला की भूमिका निभा कर मशहूर हुई निम्रत कौर हाल ही में अमेरिकी टीवी सीरिज ‘होमलैंड 4’ की आरंभिक शूटिंग कर लौटी हैं। इस टीवी सीरिज की शूटिंग दक्षिण अफ्रीका के शहर केप टाउन में चल रही है। वहां इस्लामबाद का सेट लगाया गया है। निम्रत कौर इस टीवी सीरिज में पाकिस्तानी आईएसआई अधिकारी तसनीम कुरेशी की भूमिका निभा रही हैं। पहले योजना थी कि इजरायल में ही शूटिंग की जाए।  बाद में इसे केपटाउन में शिफ्ट कर दिया गया। ‘होमलैंड’ इजरायली टीवी सीरिज का अमेरिकी संस्करण है। निम्रत कौर के मुताबिक केपटाउन में ही इस्लामबाद का सेट लगाया गया है। मेरा सारा काम यहीं होना है। ‘होमलैंड 4’ की कहानी पाकिस्तान और अफगानिस्तान में घूमती है।
      ‘होमलैंड’ इजरायली टीवी सीरिज का अमेरिकी संस्करण है। ‘होमलैंड’ एक अमेरिकी फौजी की कहानी है। अफगानिस्तान से उसे बचा कर लाया तो जाता है,लेकिन शक है कि वह आतंकवादियों का एजेंट बन गया है। युद्धवीर की सीधी तहकीकात नहीं की जा सकती,इसलिए अप्रत्यक्ष घेराबंदी की जाती है। ‘होमलैंड’ के तीन सीजन आ चुके हैं। तीनों सीजन अमेरिका के शोटाइम चैनल पर बहुत पॉपुलर रहे हैं। चौथे सीजन का प्रसारण 5 अक्टूबर से आरंभ होगा। चौथे सीजन के चौथे एपीसोड में निम्रत कौर नजर आएंगी और उसके बाद बारहवें एपीसोड तक रहेंगी। ‘होमलैंड’ का हर सीजन 12 एपीसोड का होता है।
    मजेदार घटना है कि हाल ही में निम्रत कौर पहली बार लंदन गई थीं। वहां उन्हें अपने एजेंट से ‘होमलैंड 4’ के ऑडिशन की जानकारी मिली। लंदन में पहले दिन ही उन्होंने ऑडिशन दे दिया। तब तक उन्होंने ‘होमलैंड’ के पिछले सीजन नहीं देखें थे। निम्रत कहती हैं,‘जब कुछ खास होना होता है तो यों ही हो जाता है। अमेरकी टीवी सीरिज में काम करने की कोई योजना नहीं थी,लेकिन अभी मैं उसकी शूटिंग कर रही हूं। मुंबई में ‘लंचबाक्स’ की रिलीज के बाद दर्जनों डायरेक्टर से मिल चुकी हूं और 30-32 स्क्रिप्ट पढ़ डाली। कहीं बात नहीं बनी। इंतजार में हूं कि अगली फिल्म शुरु हो। ‘लंचबाक्स’ पिछले साल 20 सितंबर को रिलीज हुई थी। लगभग एक साल हो गए। यह तो अच्छा हुआ कि ‘होमलैंड 4’ का ऑफर मिल गया।’
    निम्रत कौर समझ नहीं पातीं कि उन्हें उचित किस्म की हिंदी फिल्में क्यों नहीं मिल पा रही हैं? वह स्वीकार करती है कि शायद ‘लंचबाक्स’ को मिली सराहना से एक धारणा बन गई होगी। सभी को लगता होगा कि मैं घरेलू महिला की भूमिका के लिए ही उपयुक्त हूं। वह बताती हैं,‘फिल्मों से पहले जब मैं ऐड कर रही थी,तब दोस्त यही कहते थे कि तुम्हारा रेगुलर लुक नहीं है। तुम्हें हिंदी फिल्में कैसे मिलेंगी? मतलब मैं शहरी लगती हूं। अभी ‘लंचबाक्स’ कर ली तो यह धारणा सी बन गई है कि मैं इला जैसी ही भूमिकाएं कर सकती हूं। यह तो ज्यादती है। मैं अच्छी स्क्रिप्ट के इंतजार में हूं। मुझे बड़ी या छोटी फिल्म से फर्क नहीं पड़ता। मुझे अपना किरदार पसंद आना चाहिए। अभी कुछ निर्देशकों से बातें चल रही हैं। उनमें से एक निखिल आडवाणी हैं। उनके साथ एक फिल्म करूंगी। अपनी उम्र और लुक का सही एहसास है मुझे। मैं छरहरी हीरोइन नहीं हो सकती हूं। अभी इतनी तरह की फिल्में बन रही हैं। यकीनन कोई मेरी पर्सनैलिटी के हिसाब से स्क्रिप्ट लिख रहा होगा। बस,उसी स्क्रिप्ट की प्रतीक्षा है।’
    ‘होमलैंड 4’ से विदेशी फिल्मों और टीवी सीरिज के द्वार खुल सकते हैं ना? निम्रत कौर फिलहाल ऐसी हड़बड़ी में नहीं हैं। वह ‘होमलैंड 4’ के प्रसारण और उस पर मिली प्रतिक्रिया के बाद ही कोई बड़ा फैसला लेंगी। फिलहाल वह इस सीरिज में काम करने का आनंद उठा रही हैं। वह कहती हैं,‘उनके काम करने का तरीका बहुत अनुशासित है। सारी तैयारियां पहले हो चुकी होती हैं। इस सीरिज के निर्माता-निर्देशक चौकस रहते हैं। मुझे मालूम नहीं कि मेरा किरदार आगे क्या रूप लेगा। भारत की तरह वहीं भी टीवी सीरिज के किरदारों का भविष्य उनकी लोकप्रियता के अनुसार प्रभावित होता है।’ वह आगे जोड़ती हैं,‘स्वयं ‘लंचबाक्स’ अमेरिका और अन्य देशों में इतना पॉपुलर रहा और देखा-सराहा गया है कि हमें आरंभिक पहचान मिल गई है। अगर विदेशों में काम मिलता है तो क्यों नहीं करूंगी? अभी के दौर में कलाकारों के लिए अनेक अवसर हैं। पहला ब्रेक मिलने के बाद चीजें आसान हो जाती हैं। ’

Comments

sanjeev5 said…
निम्रत कौर के पास लंचबाक्‍स में ज्यादा करने को कुछ था नहीं लेकिन उनकी बातें सुन कर लगा जैसे वो के गलतफ़हमी की शिकार हैं की उनका समय आ गया है. एक अच्छी अभिनेत्री बनने के लिए जो तपस्या चाहिए उसका कोई प्रमाण अभी तक देने का कोई मौका अभी नहीं मिला है उन्हें. उम्मीद है होमलैंड 4 में उनके अभिनय में निखार आएगा....ये जानते हुए भी की ये एक एक्शन फिल्म है....बाकि तो वक़्त ही बताएगा.....

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

खुद के प्रति सहज हो गई हूं-दीपिका पादुकोण