करें टिप्‍पणी या लिखें कहानी : रणवीर सिंह और अजय ब्रह्मात्‍मज

 photo anigif-5.gif
रणवीर सिंह पिछले दिनों एक चायनीज नूडल्‍स और अन्‍य खाद्य पदार्थ के उत्‍पादों के ऐड की शूटिंग कर रहे थे। मैं वहां पहुंच गया। उस मुलाकात के इन दृश्‍यों पर आप की टिप्‍पणी और कहानी की अपेक्षा है। सर्वाधिक रोचक और टिप्‍पण्‍ी के लिए एक-एक पुरस्‍कार सुनिश्चित है।


Comments

shikha varshney said…
मिले हम तुम और मिला बाबा जी का ठुल्लू :P
Rajesh said…
मिले जो कड़ी कड़ी एक ज़ंजीर बने प्यार के रंग भरो ज़िंदा तस्वीर बने
sanjeev5 said…
दूरी हो मीलों सदीओं की
पर मिले हों दिल के तार जहाँ
जब मिल बैठे हम साथ साथ
हम दोनों की पहचान वहाँ

RAJESH S. KUMAR said…
व्यावसायिक मुठभेड़ या रोजगार


एक बोले कलाकार तो एक पत्रकार है
व्यावसायिक मुठभेड़ या कहें रोजगार है.

छाप है चवन्नी और काम है रुपैया
कला की बाजार में घुसपैठ है भैया.

दाढ़ी है कुरता है और यूनियन जैक है
आप ही कहते हैं यहाँ सब कुछ फेक है.

आलिया पर हमला और चिंग पर फ़िदा
बाहरी और भीतरी अंदाज़ हैं जुदा.

प्रेस रिलीज से आगे की पर्सनल गुफ्तगू
न वोह तुम्हे जाने न जाने उसे तू.

हम भी कभी मिले और सेल्फी भी हुआ था
न कोई सलाम और न ही कोई दुआ था.

रणवीर की जय हो और उन्हें ब्रहाम्त्ज़ मिले
देखें किसे कब और कैसे सरताज मिले.
आनंद said…
सुरेश-रमेश मिलाप
-------------

"अरे सुरेश! यहाँ कैसे?"

"रमेश! तू यहाँ कैसे?"

"इधर से गुजर रहा था, भीड़ खडी़ देखी तो रुक गया। ये क्‍या हुलिया बना रखा है?"

"अबे मैं स्‍टार हो गया हूँ, देखता नहीं शूटिंग कर रहा हूँ। तू अपनी सुना..."

"मैं तो ऐंवेई भटक रहा हूँ। कोई जलसा, पार्टी होती दिखी तो घुस जाता हूँ। खाने का जुगाड़ हो जाता है..."

"अपनी शकल क्‍या बना रखी है, ओत्‍तेरी, दाढ़ी भी पक गई।"

"इसी की तो इज्‍जत होती है। जानता है, मैं एक पत्‍तरकार बन गया हूँ।"

"इस बार तू हार गया। देख, मेरे डोल्‍ले-शोल्‍ले! देख मेरे ठाट! हीरो हूँ। अंदर की बात बताऊँ... दो-तीन गोरी चिट्टी हीरोइनों के साथ मेरा घर का उठना बैठना है। खी..
खी...खी..."

"ल्‍ले, बस दो-तीन। रहा ना घोंचू का घोंचू। बेटा, अपनी फोटुएँ दिखाऊँ?"

"यार सुरेश, इस बार भी तू जीता।"

"कोई नहीं यार रमेश। लगा रह। चल कुछ खिला-पिला। वो वाली चॉकलेट तो होगी न तेरे पास?"
BLOGPRAHARI said…
आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक
सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
मोडरेटर
ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

खुद के प्रति सहज हो गई हूं-दीपिका पादुकोण