बिंदास बिपाशा बसु


बिपाशा बसु से चवन्नी की चंद मुलाकातें हैं. सब से पहले एतबार के सेट पर मुलाकात हुई थी और खूब लंबी बात हुई थी.बिपाशा की कही बातें चवन्नी अभी तक नहीं भूल सका है.अरे भूल गया पहली मुलाकात तो बांद्रा के एक फ्लैट में हुई थी,जहां वह पेइंग गेस्ट के तौर पर रहती थी.फिल्मों में आए अभी ज्यादा वक्त नहीं हुआ था.बांद्रा में महबूब स्टूडियो की पीछे की गलियों में एक छोटे फ्लैट में उसने डेरा डाला था.तब उसकी अजनबी पूरी हो गयी थी.करीना कपूर ने कुछ उल्टा-सीधा बोल दिया था. अपनी करीना न ...चवन्नी को दिल की साफ लगती है.उसे जो समझ में आता है...बोल देती है.उसकी बातें जाहिर है उसकी समझ से तय होती हैं.कपूर खानदान की टूटे परिवार की लड़की की सोच की कल्पना चवन्नी कर सकता है.एक बातचीत में उसने चवन्नी को बताया था कि वह रोल पाने के लिए किसी डायरेक्टर के घर जाकर खाना नहीं बनाती या शॉपिंग पर नहीं जाती.अरे...रे..रे.. चवन्नी क्या बताने लगा.वैसे रोल हथियाने और पाने के लिए लड़कियां क्या -क्या करती हैं...इस पर कभी अलग से चवन्नी लिखेगा.
तो बात हो रही थी बिपाशा की.बिपाशा छोटी उम्र में ही दुनियादार हो गयी.वह खुद मुंबई आयी और उसने फैशन एवं मॉडलिंग की दुनिया में कदम रखा.सफलता मिली और अपने बिंदासपन को उसने हथियार बना लिया. जल्दी ही उसे अब्बास-मस्तान की फिल्म अजनबी मिल गयी.फिर उसने पलट कर नहीं देखा.संभल-संभल कर वह आगे बढ़ती गयी.उन दिनों डिनो मोरिया उसके दोस्त थे.चवन्नी को मालूम है कि कैसे अपनी पहली फिल्म एतबार में जॉन अब्राहम पहली मुलाकात में ही बिपाशा के दीवाने हो गए थे.वह दीवानगी आशिकी में बदली और फिर उनके प्रेम के सार्वजिनक किस्सों से सभी वाकिफ हुए.बिपाशा में गहन आत्मविश्वास है और यह आत्मविश्वास उसमें कामयाबी के पहले से है.उसने चवन्नी को एक छोटी,लेकिन बहुत ही खास बात कही थी कि जब मेरी उम्र की लड़कियां प्रेम पत्र लिखना सीख रही होती है,तब मैं जिंदगी के दांव-पेंच सीख रही थी.अपनी उम्र से पहले वयस्क हो गयी बिपाशा बसु को आप कितना जानते हैं या समझते हैं?

Comments

Udan Tashtari said…
हम तो बिपासा को उतना ही जानते हैं जितना आप बता रहे हैं...उससे उपर नहीं. और बताईये न, प्लीज!! अच्छा लग रहा है. :)
Sajeev said…
चवन्नी जी बिपाशा बहुत महनती लगती है, और समझदार भी, और अब तो अभिनय भी कर लेती हैं, आप बिपाशा से जब फ़्लैट में मिले थे उसकी बात आपको भूल कैसे गयी, या....

sajeevsarathie@gmail.com
www.hindyugm.com
www.dekhasuna.blogspot.com
www.sajeevsarathie.blogspot.com
09871123997
Kumar Mukul said…
आपका ब्‍लाग देखा अच्‍छा है इसे मैंने अपने ब्‍लाग से जोड दिया है अब देखता रहूंगा

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra