अभिमान निषेध

हाल ही में गोवा की एक गैर सरकारी संस्था ने शाहरुख़ खान को नोटिस भेजी है.शाहरुख़ खान को १५ दिनों के अन्दर सफ़ाई भेजनी है की वे सार्वजनिक जगहों पर क्यों धूम्रपान करते हैं.सही सवाल उठाया गया है की उनके इस उच्छृंखल व्यवहार का किशोरों पर बुरा असर पड़ता है।

फिल्म
अभिनेताओं और अभिनेत्रियों पर किसी भी प्रकार का निषेध लगाने से पहले ज़रूरी है कि उन पर अभिमान निषेध लगाया जाये.चवन्नी को इन स्टारों से मिलने के कई मौके मिले हैं और आगे भी मिलेंगे.बातचीत के दरम्यान थोडा बेतक़ल्लुफ़ होने पर इनका अभिमान जाग पड़ता है. अहम् सिर उठता है.लगभग सारे ही सितारे आत्मरति,आत्ममोह,आत्ममुग्धता और अंहकार के शिकार हैं.शाहरुख़ खान की बातचीत देखें और सुनें तो जाम की तरह छलकते उनके अहम् से आप गीले तक हो सकते हैं.सिर्फ शाहरुख़ ही क्यों ...हर स्टार केवल अपनी ही बात करता नज़र आता है।

अभिमान होना या स्वाभिमानी होना गलत नही है,लेकिन अभिमान हद से बढे तो अंहकार बनता है और अहंकारी व्यक्ति अनजाने में अपना ही नुकसान करता रहता है.फिल्म जगत के लोगों को अपने अंहकार में नष्ट होते चवन्नी ने देखा,पढा और सुना है.चवन्नी की सिफारिश है कि sabhi के अंहकार पर pabandi laga

Comments

पर कानून से आज कल सब थर्राते हैं....अदालत का चक्कर इन्हें सुधार देगा...।

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra