करीना कपूर को मिला लैपटॉप

चवन्नी पिछले दिनों गोवा में था.वहाँ रोहित शेट्टी की फिल्म गोलमाल रिटर्न्स की शूटिंग चल रही है.इस फिल्म में थोडे फेरबदल के साथ गोलमाल वाली ही तें है.शर्मन जोशी की जगह श्रेयश तलपडे आ गए हैं और अभिनेत्रियों में सेलिना जेटली,अमृता अरोरा और करीना कपूर आ गयी हैं.गोवा में एक रिसॉर्ट किराये पर लिया गया है और वहीं शूटिंग चल रही है.मुम्बई से मीडिया के चंद लोगों को वहाँ ऑन लोकेशन के लिए ले जाया गया था.होता क्या है कि जब फिल्म बन रही होती है तो पत्रकारों को शूटिंग दिखने और स्टारों से मिलवाने के लिए ले जाया जाता है.वहाँ से लौटकर सारे पत्रकार अपने-अपने हिसाब से लिखते हैं और फिल्म की जानकारी अपने पाठकों को देते हैं.चवन्नी भी गया था।

इस तरह की नियमित यात्राओं मेंकुछ रोचक जानकारियां मिल जाती हैं और फिल्म स्टारों की मेहनत और हिस्सेदारी भी करीब से देखने को मिलती है.पता चलता है कि स्टारों के साथ और कितने लोगों की मदद से एक फिल्म पूरी होती है,जबकि उनमें से अधिकांश गुमनाम ही रह जाते हैं.उनका काम मोर्चे पर तैनात सैनिकों की फुर्ती में होता है.वे सबसे पहले सेट पर आते हैं और आख़िरी में जाते हैं.अरे चवन्नी भी आपको क्या बताने लगा?

असल मजेदार वाकया तो कुछ और था.तय हुआ कि करीना कपूर अभी शॉट के बाद बात करेंगी.करीना आयीं.वह पहले से दुबली हो गयी हैं.स्क्रीन पर बहुत अच्छी दिखती हैं.ऐक्टर वास्तव में जितने दुबले या मोटे होते हैं ,उस से २०% ज्यादा स्क्रीन पर दिखते हैं.बहरहाल करीना आकर बैठीं और किसी ने पूछ दिया कि शूटिंग के बाद के समय में वह क्या करती हैं.करीना ने टपक से कहा कि सैफ अली खान ने उन्ही लैपटॉप गिफ्ट किया है और वह खली समय में उस पर हाथ आजमाती हैं.आजकल ई मेल वगैरह भी करती हैं.इसके बाद उन्होने योग,संबंध,पुरस्कार,सैफ,गोलमाल रिटर्न्स और कई दुसरे विषयों पर बातें कीं.लेकिन चवन्नी ने देखा कि मुम्बई के दो पोपुलर अख़बारों के रिपोर्टर थोडे बेचैन से हैं.दोनों बातचीत खत्म होते ही अपने-अपने फ़ोन पर लग गए.उन्होने फ़ोन पर खबर लिखवाई कि सैफ ने करीना को लैपटॉप गिफ्ट किया है.चवन्नी ने अगले दिन पढ़,सुना और देखा कि देश भर मिनिस खबर की चर्चा है.टीवी पर भी फ्लैश चल रहा था कि करीना इन दिनों लैपटॉप पर लगी रहती हैं.करीना की बाकी बातें तो मालूम नही कब उन अख़बारों में छपेंगी,लेकिन चवन्नी ने महसूस किया कि कैसे एक फालतू या सामान्य जानकारी से देश को चौंकाया जा सकता है।

चवन्नी का उद्देश्य ऐसा ही कुछ करने का कतई नही था.चवन्नी सिर्फ आप को बता रहा है कि फिल्म पत्रकारिता में आजकल क्या चल रहा है...

Comments

mamta said…
आप बिल्कुल दुरुस्त फरमा रहे है।

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra