सिनेयात्रा की गवाह-विविध भारती

शिशिर कृष्‍णा शर्मा के शोध और आलेख से संवर्द्धित यह कार्यक्रम श्रवणीय और संग्रहणीय है। इसे आप अवश्‍य सुनें और उन आवजों से वाकिफ हों,जिनके सृजन से हिंदी फिल्‍मों का सुखमय मायाजाल का यह वितान है। शिशिर जी शोध,लेखन और अन्‍य कलात्‍मक कार्यो में निरंतर सक्रिय हैं। सिनेयात्रा की गवाह-विविध भारती को कमल शर्मा और प्रेम बंसल ने प्रस्‍तुत किया है।


Comments

Popular posts from this blog

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

लंदन से इरफ़ान का पत्र