हर बार अलग अवतार में सोनाक्षी सिन्‍हा

-अजय ब्रह्मात्मज
 दो महीनों में सोनाक्षी सिन्हा की तीन फिल्में आएंगी। इनमें वह तीन पीढिय़ों के अभिनेताओं के साथ दिखेंगी। पहली फिल्म अजय देवगन के साथ ‘ऐक्शन जैक्सन’ है। उसके बाद दक्षिण के सुपर स्टार रजनीकांत के साथ ‘लिंगा’ आएगी और फिर 2015 की शुरूआत अर्जुन कपूर एवं मनोज बाजपेयी के साथ आ रही ‘तेवर’ से होगी। तीनों के विषय और परिदृश्य अलग हैं।
    सोनाक्षी सिन्हा पहले ‘ऐक्शन जैक्सन’ की बात करती हैं,‘यह प्रभु देवा की फिल्म है। श्ह बहुत ही मसालेदार,एंटरटनिंग बौर ऐक्शन पैक्ड फिल्म है। इस फिल्म में पहली बार मेरे प्रशंसक मुझे वेस्टर्न ड्रेस में देखेंगे। चार सालों से लोग पूछ रहे थे कि मैं वेस्टर्न लुक में कब आऊंगी? तो लीजिए मैं आ गई। इस बार वे सभी खुश हो जाएंगे। इस फिल्म में मूरे चुने जाने की एक बड़ी वह मेरी कॉमिक टाइमिंग है। प्रभु देवा और अजय सर ने मुझे यही बताया। प्रभु और अजय दोनों के साथ पहले काम कर चुकी हैं। उन्हें लगा कि मैं रोल को संभाल पाऊंगी। बहुत ही फनी कैरेक्टर है मेरा। मैं ऐसी लडक़ी हूं,जिसका लक इतना खराब रहता है कि वह हमेशा फनी सिचुएशन में फंस जाती है। प्रभु देवा की फिल्म है तो सौंग ऐड डांस तो है ही।’
    अजय के साथ ‘सन ऑफ सरदार’ जैसी सफल फिल्म कर चुकी सोनाक्षी कहती हैं कि पिछली फिल्म से ‘ऐक्शन जैक्सन’ की तुलना करना उचित नहीं होगा। दोनों फिल्मों के विषय और डायरेक्टर अलग हैं। फिल्म में चुने जाने का किस्सा बताती हैं सोनाक्षी,‘प्रभु सर अजय देवगन के सामने जिक्र कर रहे थे कि उन्हें अगली फिल्म के परफेक्ट कॉमिक टाइमिंग की एक्ट्रेस चाहिए। अजय सर ने तत्काल कहा कि आप परफेक्ट टाइमिंग की एक्ट्रेस से बात कर रहे हैं। इन्हें चुन लें न ? कह सकती हूं कि मैं दोनों की पसंद हूं। टिवस्ट एंड टर्न हैं,लेकिन यह ऑल आउट एंटरटेनिंग फिल्म है।’
    रजनीकांत के साथ आ रही ‘लिंगा’ में सोनाक्षी ने पीरियड किरदार निभाया है। वह बताती है,‘मेरे लिए बहुत खुशी की बात है कि तमिल में मेरी शुरूआत रजनी सर के साथ हो रही है। मैं उनकी फैन पहले से थी। साथ में काम करने के बाद मैं उनकी जबरदस्त फैन हो गई हूं। कितने सरल और विनम्र हैं। ‘लिंगा’ की कहानी दो हिस्सों में बांटी जा सकती है। एक अभी की कहानी है और एक पांचवें दशक की कहानी है। मैं पांचवें दशक की कहानी में हूं। मेरा नाम मणि भारती है। चूंकि यह पीरियड फिल्म है,इसलिए फिल्म के प्रेम और अंतरंग दृश्य अलग तरीके से रचे गए। मुझे पापा के दोस्त रहे अभिनेता के साथ काम करने मेें कोई दिक्कत नहीं हुई। हम दोनों में किसी ने भी असहज महसूस नहीं किया। फिल्म देखते समय पाप भी असहज महसूस नहीं करेंगे।’ रजनीकांत ने सोनाक्षी को बताया कि वे खुद उनके पिता शत्रुघ्न सिन्हा के फैन रहे। उन्होंने करिश्माई अदाएं उसकी फिल्मों से सीखीं। सोनाक्षी ने बताया कि उन्होंने ‘लिंगा’ में काम करते हुए रजनीकांत से सीखा। उन्हें यह बात बहुत अच्छी लगी कि सेट पर निर्देशक समेत टीम के सभी सदस्य मदद करने के लिए आतुर रहते थे।
    अमित शर्मा की पहली फिल्म ‘तेवर’ को लकर सोनाक्षी बहुत उत्साहित हैं। वह अमित शर्मा की जारफ में उनकी ऐड फिल्मों का उल्लेख करती हैं। ‘तेवर’ के बारे में भी बताने के लिए उनके पास बहुत कुछ है। वह कहती हैं,‘आप देखेंगे कि अमित शर्मा आने वाले समय में कमाल करेंगे। गूगल के रीयूनियन ऐड की मर्मस्पर्शी फिल्में उन्होंने बनाई थीं। जो दो मिनट में अपनी बात कह सकता है,वह दो घंटे में तो कमाल कर देगा। मेरी अपेक्षा सही निकली। ‘तेवर’ तेलुगू में बनी ‘ओक्करू’ की रिमेक है। अमित ने फिल्म का भाव पहीं रखा है,लेकिन किरदार और परिवेश बदल दिया है। यह आगरा और मथुरा की कहानी हो गई है। यंग लव स्टोरी है। फिल्म के विलेन से भाग रहे लडक़े-लडक़ी के बीच प्यार पनपता है। इस बार लडक़ी प्यार का एहसास पहले करती है। बाद में लडक़ा भी उससे प्रेम करने लगता है। फिर दोनों मिल कर विलेन का मुकाबला करते हैं।’ अर्जुन स्कूल में सोनाक्षी के सीनियर रहे थे। तब हल्की-फुल्की मुलाकात रही थी। दोनों एक-दूसरे के बार में जानते रहे। मुलाकात और साथ ‘तेवर’ के सेट पर हुआ। उन्होंने पूरी मेहनत और लगन के साथ यह फिल्म की है। यह फिल्म उनके लिए इसलिए भी खास है कि वे पहली बार होम प्रोडक्शन की फिल्म में काम कर रहे हैं।
    सोनाक्षी संतुष्ट हैं कि उन्हें भिन्न उम्र के अभिनेताओं के साथ काम करने का मौका मिल रहा है। वह कहती हैं,‘मेरे लिए चुनौती और अभ्यास का अवसर रहा। अर्जुन हमउम्र हैं। अजय सीनियर हैं और रजनी सर पापा के दोस्त।’

Comments

Popular posts from this blog

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

लंदन से इरफ़ान का पत्र