हिंदी फिल्‍मों की पहली तिमाही

-अजय ब्रह्मात्‍मज

पहली तिमाही में रिलीज हुई 22 फिल्मों से केवल 6 फिल्मों की कमाई उल्लेखनीय रही। यमला पगला दीवाना, तनु वेड्स मनु, नो वन किल्ड जेसिका, दिल तो बच्चा है जी, धोबी घाट और ये साली जिंदगी ने अपनी लागत के अनुपात में अधिक कमाई की। पटियाला हाउस समेत बाकी छोटी-बड़ी फिल्में दर्शकों का दिल नहीं जीत सकी। ट्रेड पंडितों की राय में पहली तिमाही में व‌र्ल्ड कप की वजह से कई हफ्ते थिएटर खाली रहे, इसलिए बिजनेस कम हुआ। लेकिन गौर करें तो व‌र्ल्ड कप के दरम्यान ही रिलीज हुई तनु वेड्स मनु ने बेहतर कारोबार किया। ये साली जिंदगी के निर्देशक सुधीर मिश्रा ट्रेड पंडितों के विश्लेषण से सहमत नहीं हैं। उनके मुताबिक, यह तर्क बेकार है कि व‌र्ल्ड कप की वजह से ही फिल्म का बिजनेस मारा गया। आप अच्छी फिल्म नहीं बनाओगे तो लोग खाली रहने पर भी थिएटर नहीं आएंगे। और फिर फिल्में ही रिलीज नहीं होंगी तो दर्शक क्या देखने आएंगे? पहली तिमाही में सुधीर मिश्र की फिल्म ये साली जिंदगी ने 17 करोड़ से अधिक का कारोबार किया है। देओल परिवार की फिल्म यमला पगला दीवाना कमाई के लिहाज से सबसे आगे रही। उसका कुल कारोबार 52 करोड़ से अधिक है।

अक्षय कुमार की पटियाला हाउस उनकी मौजूदगी और जबरदस्त प्रचार के साथ ही क्रिकेट की थीम पर होने के बाद भी केवल 30 करोड़ का व्यापार कर सकी, जबकि आर माधवन और कंगना रनौत की तनु वेड्स मनु ने ऐन व‌र्ल्ड कप के दौरान 35 करोड़ का आंकड़ा पार किया। बॉक्स ऑफिस इंडिया के संपादक वजीर सिंह के मुताबिक, इस साल पहली तिमाही में छोटी फिल्मों का परफार्मेस अच्छा रहा। पहली तिमाही में पटियाला हाउस और यमला पगला दीवाना दो बड़ी फिल्में ही रिलीज हुई। उनमें से एक चली और दूसरी फ्लाप हो गई। नो वन किल्ड जेसिका तो पहले से चर्चा में आ चुकी थी, लेकिन तनु वेड्स मनु की कामयाबी ने सभी को सरप्राइज किया। पहली तिमाही का रिपोर्ट कार्ड फिल्म इंडस्ट्री के लिए संतोषजनक कहा जा रहा है। पिछले साल की तुलना में इस साल की पहली तिमाही में फिल्म इंडस्ट्री ने अच्छा और अधिक कारोबार किया है। कह सकते हैं कि व‌र्ल्ड कप और फिल्मों की रिलीज में आए गैप के बावजूद फिल्म इंडस्ट्री का कुल कारोबार उत्साहजनक रहा। दर्शकों ने रिलीज हुई फिल्मों में रुचि दिखाई।

Comments

शिवा said…
अच्छा लेख .
हर वो भारतवासी जो भी भ्रष्टाचार से दुखी है, वो देश की आन-बान-शान के लिए समाजसेवी श्री अन्ना हजारे की मांग "जन लोकपाल बिल" का समर्थन करने हेतु 022-61550789 पर स्वंय भी मिस्ड कॉल करें और अपने दोस्तों को भी करने के लिए कहे. यह श्री हजारे की लड़ाई नहीं है बल्कि हर उस नागरिक की लड़ाई है जिसने भारत माता की धरती पर जन्म लिया है.पत्रकार-रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा"
भ्रष्टाचारियों के मुंह पर तमाचा, जन लोकपाल बिल पास हुआ हमारा.

बजा दिया क्रांति बिगुल, दे दी अपनी आहुति अब देश और श्री अन्ना हजारे की जीत पर योगदान करें आज बगैर ध्रूमपान और शराब का सेवन करें ही हर घर में खुशियाँ मनाये, अपने-अपने घर में तेल,घी का दीपक जलाकर या एक मोमबती जलाकर जीत का जश्न मनाये. जो भी व्यक्ति समर्थ हो वो कम से कम 11 व्यक्तिओं को भोजन करवाएं या कुछ व्यक्ति एकत्रित होकर देश की जीत में योगदान करने के उद्देश्य से प्रसाद रूपी अन्न का वितरण करें.

महत्वपूर्ण सूचना:-अब भी समाजसेवी श्री अन्ना हजारे का समर्थन करने हेतु 022-61550789 पर स्वंय भी मिस्ड कॉल करें और अपने दोस्तों को भी करने के लिए कहे. पत्रकार-रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना हैं ज़ोर कितना बाजू-ऐ-कातिल में है.

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

तो शुरू करें