'अशोक' बनेंगे अमिताभ बच्चन और अजय देवगन

एक हैं डॉ चंद्रप्रकाश द्विवेदी...उन्होंने कुछ सालों पहले पिंजर नाम की फिल्म बनाईं थी.उस फिल्म की काफी तारीफ हुई थी.सभी ने मन था कि उन्होंने चाणक्य के बाद एक और बेहतरीन काम किया है.पिंजर के बाद डॉ द्विवेदी ने सनी देओल के साथ पृथ्वीराज रासो की योजना बनाईं.इस फिल्म की अभी घोषणा भी नहीं हुई थी कि राज कुमार संतोषी ने विज्ञापन तक प्रकाशित कर दिया कि वे अजय देवगन और ऐश्वर्या राय के साथ पृथ्वीराज रासो बनायेंगे.कहते हैं राज कुमार संतोषी और सनी देओल की पुरानी लड़ाई और अहम का शिकार हो गयी डॉ द्विवेदी की पृथ्वीराज रासो.कुछ समय के बाद पता चला कि दोनों ही फिल्मों को निर्माता नहीं मिल पाए.भगत सिंह के दौरान पैसे होम कर चुके निर्माताओं ने नहीं टकराने का फैसला लिया.नतीजा सभी के सामने है.पृथ्वीराज रासो नहीं बन सकी।

डॉ द्विवेदी मन मसोस कर रह गए.उधर राज कुमार संतोषी हल्ला बोल बनने में जुट गए.लंबे शोध और अध्ययन के बाद डॉ द्विवेदी ने अशोक के जीवन के उत्तर काल पर फिल्म बनने की सोची.इस फिल्म के सिलसिले में उनकी मुलाक़ात देश के कई निर्माताओं से हुई.सभी ने इस फिल्म में रूचि दिखाई.मामला धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा था.खबर थी कि इस फिल्म में अशोक की भूमिका अमिताभ बच्चन निभाएंगे.इस बार फिर दे द्विवेदी की फिल्म की घोषणा से पहले ही राज कुमार संतोषी ने अशोक की घोषणा कर दी.इनकी अशोक में अजय देवगन जवान एवं वृद्ध अशोक के साथ उनके बेटे कुणाल की भी भूमिका निभाएंगे।

दोनों ही निर्देशक अशोक के उत्तर काल पर फिल्म बना रहे हैं.अशोक कि उम्र उस समय ६०-६५ की रही होगी.क्या अजय देवगन इस भूमिका में सही लगेंगे.एक सवाल यह भी है कि क्या दर्शक उन्हें तिहरी भूमिका में देखना पसंद करेंगे?चवन्नी को लगता है कि शांतिदूत अशोक की भूमिका में अमिताभ बच्चन अधिक सही लगेंगे?

Comments

Anonymous said…
अशोक ए चक्कर में बहुतों का घर फुंक चुका है. शाहरुख तो निपट ही चुके हैं. इससे पहले ओ.पी. रल्हन एसे निपटे न अशोका दि ग्रेट बनी और न रल्हन साहब कुछ बनाने के काबिल रहे.
इस बार इन्हें भी देख लेते हैं.
Anonymous said…
अल्फांसो आम हैं की खास?
Anonymous said…
अल्फांसो आम हैं की खास?
डॉक्टर द्विवेदी को मेरा सलाम.
chavannichap said…
अल्फांसो और बनारसी लंगड़ा कौन हैं?कृपया नाम के साथ आएं.

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

खुद के प्रति सहज हो गई हूं-दीपिका पादुकोण