चवन्नी पर बोधिसत्व

चवन्नी को बोधिसत्व की यह टिपण्णी रोचक लगी.वह उसे जस का तस् यहाँ यहाँ प्रस्तुत कर खनक रहा है।आपकी टिपण्णी की प्रतीक्षा रहेगी.- चवन्नी चैप
चवन्नी खतरे में है। कोई उसे चवन्नी छाप कह रहा है तो कोई चवन्नी चैप। वह दुहाई दे रहा है और कह रहा है कि मैं सिर्फ चवन्नी हूँ। बस चवन्नी। पर कोई उसकी बात पर गौर नहीं कर रहा है। और वह खुद पर खतरा आया पा कर छटपटा रहा है। यह खतरा उसने खुद मोल लिया होता तो कोई बात नहीं थी। उसे पता भी नहीं चला और वह खतरे में घिर गया। जब तक इकन्नी, दुअन्नी, एक पैसे दो पैसे , पाँच, दस और बीस पैसे उसके पीछे थे वह इतराता फिरता रहा।उसके निचले तबके के लोग गुम होते रहे, खत्म होते रहे फिर भी उसने उनकी ओर पलट कर भी नहीं देखा। वह अठन्नी से होड़ लेता रहा। वह रुपये का हिस्सेदार था एक चौथाई का हिस्सेदार। पर अचानक वह खतरे के निशान के आस-पास पाया गया। उसे बनाने वालों ने उसकी प्रजाति की पैदावार पर बिना उसे इत्तिला दिए रोक लगाने का ऐलान कर दिया तो वह एक दम बौखला गया। बोला बिना मेरे तुम्हारा काम नहीं चलेगा। पर लोग उसके गुस्से पर मस्त होते रहे। निर्माताओं की हँसी से उसको अपने भाई-बंदों के साथ हुए का अहसास हुआ।अब चवन्नी के गिरने की आवाज बहुत धीमी हो गई है। वह पैर के पास गिरता है तो भी पता भी नहीं चलता। कभी-कभी तो उसे गिरता जान कर जेब खुश होती है कि अच्छा हुआ यह गिर गया। बेवजह मुझे फाड़ने पर लगा था। चवन्नी को ज्यादा दुख इस बात का भी है कि उसे गिरा पाकर कोई खुश नहीं होता। ताँबे का होता तो बच्चों के करधन और गले में नजरिया बन कर बचा लेता खुद को। जस्ते का होता तो बरतन बन कर घरों में घुस लेता। पता नहीं किस धातु से बनाया उसको बनाने वालों ने। वह बार-बार खुद को खुरच कर देखता है और समझ नहीं पाता कि किस मिट्टी का बना है वह।उसे भारत के देहातों ने पहले दुत्कारा। फिर शहरों ने । फिर सबने। वह बेताब होकर एक अच्छी खबर के लिए तरस रहा है। और उसके लिए मुंबई से एक अच्छी खबर है भी। यहाँ की बसों में उसके होने को मंजूरी दे दी गई है। और दक्षिण भारत के किसी मंदिर से उसे और अठन्नी को हर महीने करोड़ो की संख्या में लाया जाएगा। पर उसे बहुत राहत नहीं है। वह अपने नये चमकीले साथियों को न पाकर दुखी है। वह अपनी प्रजाति के पैदाइश पर रोक से हताश है। वह रातों में सोते से जाग उठता है, कि कहीं कल बसों में उसकी खपत बंद हो जाए तो। असल में वह खत्म नहीं होना चाहता । उसे इतिहास में नहीं मौजूदा समाज में अपनी जगह चाहिए। जेबों में गुल्लकों में अपनी खनक सुनना चाहता है चवन्नी। वह अपनों के बीच रहना चाहता है। पर कोई उसके होने और रोने पर विचार ही नहीं कर रहा। कोई उसकी नहीं सुन रहा जबकि वह काफी काम की बात करता सोचता है। उसके विचार अच्छे हैं, उसका नजरिया अच्छा है और उसकी, बातें, बेचैनी और दुख अपने से लगते हैंदोस्तों अपने चवन्नी को देखें- पढ़ें। उसे खुशी होगी और आप को संतोष । चवन्नी इतिहास नहीं वर्तमान में जिंदा रहेगा। हमारे आपके बीच उसकी खनक रहेगी। और खनक हमेशा अच्छी ही होती है अगर उसमें खोट ना हो।

Comments

चवन्नी को फिर से पाकर अच्छा लगा। चवन्नी को छापनेवालों ने भले उसे मिटा दिया था लेकिन चवन्नी को चाहनेवालों ने उसे खोज निकाला। जय पो चवन्नी की।
यही जिजीविषा है, मरते हुए जी जाना, हारते हुए जीत जाना....। इस दौर में जब कुछ लोग सब कुछ खत्म करने पर तुले हैं, चवन्नी प्रकरण का यह सफल अंजाम देखकर खुशी होती है, वाकई...बड़े दिल वाले लोग हैं जो छोटी सोच वालों की इस दुनिया में जीने-जिलाने की वजह प्रदान करते हैं....चवन्नी के पुनरजीवन पर दिली खुशी है मुझे.....
जय भड़ास
यशवंत सिंह
यही जिजीविषा है, मरते हुए जी जाना, हारते हुए जीत जाना....। इस दौर में जब कुछ लोग सब कुछ खत्म करने पर तुले हैं, चवन्नी प्रकरण का यह सफल अंजाम देखकर खुशी होती है, वाकई...बड़े दिल वाले लोग हैं जो छोटी सोच वालों की इस दुनिया में जीने-जिलाने की वजह प्रदान करते हैं....चवन्नी के पुनरजीवन पर दिली खुशी है मुझे.....
जय भड़ास
यशवंत सिंह
Anonymous said…
चवन्नी का यह प्रसंग बहुत कुछ कह जाता है.चवन्नी चलन में रहे.हम सब यही चाहेंगे.वैसे िसनेमा के संदर्भ में चवन्नी ताे चलता ही रहेगा.उसे छाप कहे या चैपए॥या फर्कर् पड़ता है.
yah tippani to vaakai bahut hi rochak lagi dviarthi tippani ko samajhane ka boota hona chahie kya yah vaakai chavanni ki charcha hai ya phir chavanni chap ke kriwiwva ke liya charcha ki jaa rahi hai.

chavanni ka apana astitva kaun khatma kara raha hai. vha to hamesha hi rahegi. ky aham itihaas ko bhool jaate hain. aga5r buddhhijivi hai to vah sadaiva usase judha hai. yyahj sanskriti ka eka hissa aur isake astiwva ko kabhi bhi khatra nahin hoga.


chavanni aaj hai to hamesha hi rahegi. kaal ke gart men to sabhi jaate hain lekin agar unamen kuchh hai to kitaabon men aur maanaspatal para khatma kabhi nahin hote hain.

Popular posts from this blog

लोग मुझे भूल जायेंगे,बाबूजी को याद रखेंगे,क्योंकि उन्होंने साहित्य रचा है -अमिताभ बच्चन

फिल्‍म समीक्षा : एंग्री इंडियन गॉडेसेस

Gr8 Marketing turns Worst Movies into HITs-goutam mishra